वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा हो घर का नक्शा (Vastu shastra ke anusar kaisa ho ghar ka naksha)

Spread the love

आज हम आपको अपनी इस post में वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा हो घर का नक्शा इन topic पर discuss करने जा रहे हैं। और हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आएगी। और आप इसको आगे share भी करेंगे।

वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा हो घर का नक्शा (Vastu shastra ke anusar kaisa ho ghar ka naksha)

 

 

वास्तव में 9 दिशाएं होती है यानी 8 दिशाओं के अलावा एक मध्य दिशा वास्तु शास्त्र के अनुसार आपका घर या फिर ऑफिस के बिल्कुल मत बताइए स्थान संबंधित व्यक्ति के जीवन (Life) पर बहुत ज्यादा प्रभाव डालता है इसीलिए इस केंद्र (Center) यानी मध्य स्तान को बहुत महत्व दिया जाता है।

Also Read:   वास्तु शास्त्र के 21 टिप्स करेंगे वास्तु दोषों को दूर

दिशाओं के अनुसार घर का नक्शा इस तरह बनाएं

घर का मुख्य द्वार

आपके घर का main द्वार पूर्व दिशा में ही होना चाहिए क्योंकि ऐसा होने पर समृद्धि (Prosperity) का मार्ग खुलता है और जबकि दक्षिण दिशा में अगर घर का मुख्य द्वार हो तो वह आपके लिए मुश्किलें (Problems) बढ़ाता है। और आपके घर के मुख्य द्वार पर कोई भी बिजली का खंबा या फिर कोई बड़ा पेड़ (Tree) नहीं होना चाहिए। इसके आंखें कोई भी तेरा हा या फिर चौराहा नहीं होना चाहिए क्योंकि यह negativity को बढ़ाता है।

देवताओं की दिशा

आपके घर के निर्माण के समय में अग्नि जल और वायु देवता का विशेष ध्यान देना बहुत ही जरूरी होता है। मतलब यह है कि अग्नि स्थान पर अग्नि (Fire) से संबंधित काम ही होने चाहिए और जल (Water) के स्थान पर जल से संबंधित काम होने चाहिए अगर इनकी दिशा विपरीत हो गई तो आपको काफी परेशानी उठानी पड़ सकती है।

रसोई का सही स्थान

घर के रसोई (Kitchen) का संबंध अग्नि देवता से होता है और और इनसे जुड़े कौन आदरणीय कौन दक्षिण-पूर्व दिशा में ही होता है। इसीलिए रसोई का निर्माण (Construction) हमेशा इसी दिशा में किया जाए।

Also Read:   वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा होना चाहिए घर के कमरे का रंग (Vastu shastra ke hisaab se kaisa hona cahiye ghar ke kamre ka rang)

पानी के टैंक का स्थान

आपके घर में जहां पर पानी (Water) जमा किया जाता है उसका कोण ईशान कोण होता है जो उत्तर पूर्व-दिशा में होता है इसीलिए पानी जमा करने का स्थान इसी दिशा में बनाया जाए तो ज्यादा बेहतर (Better) है।

पूजा घर

अगर आपके घर का पूजा घर ?(Temple) ईशान कोण में बनाए जाए तो बहुत अच्छा होता है।

शौचालय का सही स्थान

आपके घर में toilet को नैऋत्य कोण में ही बनवाए।

और इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि घर के किसी भी कोने में कचरा (Garbage) जमा होना नखरा अथवा ऊर्जा को बढ़ाता है जिसका प्रभाव आपके family की शांति पर पड़ता है।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको कैसे वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा हो घर का नक्शा (Map) यह आर्टिकल काफी पसंद आया होगा कृपया इसको सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें यदि आप कुछ प्रश्न करना चाहते हैं तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स पर या हमें फेसबुक पर मैसेज करके भी पूछ सकते हैं।

Also Read:   Vastu Tips For Home: घर के लिए वास्तु टिप्स - वास्तु के 10 टिप्स हर घर के लिए शुभ और फायदेमंद

Search terms – वास्तुशास्त्र के अनुसार घर का नक्शा, वास्तु शास्त्र के अनुसार शौचालय, वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व मुखी घर का नक्शा, वास्तु शास्त्र के अनुसार पश्चिम मुखी घर का नक्शा, वास्तु शास्त्र के अनुसार दक्षिण मुखी घर का नक्शा, वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में मंदिर, वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की लम्बाई चौड़ाई, वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का रंग


Spread the love