वास्तु में इन आठ दिशाओं का महत्व और जुड़े उपाय (Vastu mai in 8 dishao ka mahatv aur jude upaye)

Spread the love

आज हम आपको अपनी इस post में वास्तु दोष को शांत करने वाले मंत्र इन topic पर discuss करने जा रहे हैं। और हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आएगी। और आप इसको आगे share भी करेंगे।

पूर्व

सूर्य देव की दिशा होने की वजह से इस तरफ से positive ऊर्जा से भरी करने हमारे घर में सीधे अंदर आती हैं। इसकी वजह से घर के मालिक की age लंबी होती है और संतान हमेशा सुखी रहता है। और अगर घर के खिड़की और दरवाजे से इस दिशा में हो तो शुभ माना जाता है और बच्चों को भी इसी दिशा में पढ़ाई करनी चाहिए।

पश्चिम

आपके घर में इसी दिशा की जमीन या फिर फर्ज का तुलनात्मक रूप से ऊंचा होना आपकी सफलता के लिए बहुत ही ज्यादा शुभ है। और अगर आपका kitchen और toilet किस दिशा में हो तो यह बहुत ही बेहतर कहलाता है।

Also Read:   वास्तु शास्त्र के अनुसार ये 8 आदतें होती है बुरी, लाती है दुर्भाग्य और गरीबी

उत्तर

आपके घर अगर आप का entrance door इस दिशा में है तो बहुत ही शुभ और लाभकारी होता है। और अगर घर खिड़की, दरवाजे, बालकनी और वाशबेसिन भी इसी दिशा में हो तो वह बहुत ही लाभदायक होता है।

दक्षिण

अगर आपने इस दिशा की जमीन पर कोई भी भारी समान रखा है तो आपके घर के सदस्य सुखी समृद्ध और निरोगी हो सकते हैं। और अगर आपके घर की अलमारी का locker इस दिशा में है तो वह बहुत बेहतर है। और इस दिशा में कोई शौचालय नहीं होना चाहिए।

उत्तर-पूर्व

यह दिशा “ईशान दिशा” के नाम से भी जानी जाती है क्योंकि यह दिशा जल की दिशा होती है और इस दिशा में बोरिंग, स्विमिंग पूल आदि होना चाहिए।

उत्तर- पश्चिम

इसे “ वायव्य दिशा” भी कहा जाता है और अगर आपके घर में नौकर है तो उसका कमरा भी इसी दिशा में होना चाहिए और अगर इस दिशा में आपका bedroom, garage है तो वह बहुत अच्छा है।

Also Read:   वास्तु शास्त्र के 21 टिप्स करेंगे वास्तु दोषों को दूर

दक्षिण-पूर्व

यह एक अग्नि की दिशा है और इसीलिए इसे आग्नेय दिशा भी कहा जाता है। इस दिशा में आपके घर के सभी सामान रख सकते हैं जैसे गैस, boiler, इनवर्टर आदि।

दक्षिण-पश्चिम

अगर आपको अपने जीवन में स्थित वे चाहिए तो घर के दक्षिण-पश्चिम हिस्से का वास्तु दोष करना जरूरी होता है क्योंकि इसी हिस्से में सबसे ज्यादा चुंबकीय ऊर्जा होती है। इसीलिए यह माना जाता है कि धन जेवरात अगर इस दिशा में रखें जाए तो सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको कैसे वास्तु दोष को शांत करने वाले मंत्र यह आर्टिकल काफी पसंद आया होगा कृपया इसको सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें यदि आप कुछ प्रश्न करना चाहते हैं तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स पर या हमें फेसबुक पर मैसेज करके भी पूछ सकते हैं।

Search Terms – वास्तु दिशा चार्ट,वास्तु पुरुष स्थापना,वास्तु शास्त्र नैऋत्य दिशा,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर,प्राचीन वास्तु,वास्तु देवता के नाम,मकान के वास्तु टिप्स,घर का मुख्य द्वार किस दिशा में होना चाहिए,शौच करते समय मुख किस दिशा में होना चाहिए,किचन किस दिशा में होना चाहिए,वायव्य कोण में क्या होना चाहिए,पशुओं को किस दिशा में बांधना चाहिए,गाय को किस दिशा में बांधना चाहिए,मंदिर किस दिशा में होना चाहिए,वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की सीढ़ियां


Spread the love