कैंसर और पथरी जैसी खतरनाक बिमारी को भी जड़ से मिटा सकता है बथुआ

Spread the love

हमारे शरीर में अक्सर ऐसा होता है कि किसी वजह से गांठ बनने लगती है जो अक्सर किसी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है. अगर आपके शरीर में कोई गांठ हो तो उसके लिए बथुए का इस्तेमाल कैसे किया जाए. बता रहे हैं, आचार्य बाल कृष्णा जी.


बथुए को लोग कई तरह से खाते हैं जैसे बथुए की रोटी , कचौरी , पराठा और सब्जी इत्यादि | बथुआ खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही इसके फायदे भी होते हैं | पथरी से लेकर कैंसर तक की बिमारियों का अचूक घरेलु नुस्खा है ये | आप इसे बाज़ार में कहीं से भी ले सकते हैं |

लीवर की गांठ: 

ताजा बथुए को तोड़कर बथुए को जड़ सहित डब्बे में भरकर इसे सुखा लें और इसका पाउडर बना लें | 10 ग्राम इस पाउडर को लीजिए और 400 ग्राम पानी में इसे उबालिए | जब ये मिश्रण अच्छी तरह से पक जाये और केवल 50 ग्राम ही बचे तब इस मिश्रण को छान लें और काढ़े को पियें |

Also Read:   केला खाने का सही तरीका, केला खाने का सही समय, केला के 7 फायदे, kela khane ka sahi time

इस विधि से जल्दी ही गांठ घुल जाती है और काढ़ा पीने से कैंसर होने की संभावना भी कम होती है | अगर बात करें पथरी की तो  ये काढ़ा बहुत फायदेमंद है. आचार्य  श्री बालकृष्णजी कहते हैं कि ये बथुआ सिर्फ एक साग नहीं है बल्कि कई गंभीर बीमारियों को जड़ से मिटाने वाली चमत्कारी औषधी‍ है.

बथुआ खाने के और भी कई सारे फायदे हैं जैसे:

  • बच्चों को कुछ दिनों तक अगर बथुए का साग खिलाया जाये तो उनके पेट के कीड़े मर जाते हैं।
  • खून को साफ करने में बथुआ बहुत ही लाभकारी माना जाता हैं।
  • पीरियड्स में फायदेमंद
  • चर्म रोग दूर करे
  • पीलिया में फायदेमंद
  • बथुआ साग में में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं, जिससे आँखों की रोशिनी बढ़ती हैं
  • दांतों और मूंह की समस्याओं में फायदेमंद
  • बथुए का साग खाने से बवासीर से निजात मिलता हैं।
  • बालों को घना और काला बनाये रखने में बथुआ आंवले से कम फायदेमंद नहीं हैं।
  • पाचन शक्ति बढ़ाये
  • कब्ज़ दूर करने में फायदेमंद
  • बथुआ साग खाने से गुर्दे की पथरी में फायदा होता हैं। इसके साग का सेवन करने से अमाशय भी मजबूत और सेहतमंद बनता हैं। स्टोन की समस्या हैं तो बथुए के रस में शक्कर मिला कर पीने से पथरी धीरे-धीरे टूट कर शरीर से बाहर निकल जाती हैं।
  • इसके सेवन से पेट के रोग जैसे की गैस, अपच, कृमि, पथरी, लकवा, ठिया हर प्रकार के गुदे के रोग में फायदा होता हैं। गर्भवती महिलाओं को बथुए का सेवन नहीं करना चाहिए, नहीं तो उन्हें गर्भपात होने का खतरा बना रहेगा।

यदि आपको आर्टिकल अच्छा लगा तो कृपया इसे फेसबुक पर शेयर करें | आपका एक शेयर कई लोगों की जिंदगी बचा सकता है |


Spread the love