पितृ नाराज होने पर क्या होता है।पितृ खुश नहो तो ये संकेत देते हैं।

Spread the love

जैसा कि आप लोग जानते हैं पितृपक्ष आने वाले हैं और पितृपक्ष में अगर कोई व्यक्ति पूरी श्रद्धा से सारे विधि विधान के साथ में पित्र पक्ष का पालन करता है तो उसके सभी दोष दूर हो जाते हैं |

पितृपक्ष का प्रारंभ 10 सितंबर से होगा जिन लोगों की कुंडली में पित्र दोष है उन्हें  पितृदोष की शांति के लिए कुछ उपाय उपाय जरूर करनी चाहिए |

बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है अक्सर देखा गया है कि घर परिवार में हमेशा क्लेश बना रहता है पैसों की समस्या बनी रहती है लेकिन अगर आप पितृपक्ष की कुछ उपाय करेंगे तो आपका पितृपक्ष दूर हो सकता है |

Also Read:   100 साल बाद बना धनतेरस पर महासंयोग, जाने क्या करें क्या न करें , और नहीं खरीदें ये 6 चीजें

दोस्तों पितृपक्ष की अगर बात करें तो है 10 सितंबर से होगा और 25 सितंबर तक यह पक्ष रहेगा जिसमें आप पितरों की मृत्यु की तिथि पर ब्राह्मणों को श्रद्धा पूर्वक भोजन करवाएं और उसके बाद यथाशक्ति दक्षिणा देकर विदा करें |

पितृ दोष लगने का कारण

  • कुंडली में पितृ दोष लगने के कई कारण शास्त्रों में दिए गए हैं.
  • पितरों का विधिवत अंतिम संस्कार और श्राद्ध न होना.
  • धर्म का अपमान करना और धर्म के विरुद्ध आचरण करना.
  • किसी भी नाग की हत्या करना या किसी से करवाना.
  • पितरों को भूल जाना या उनका अपमान करना.
  • कुंडली के पितृ दोष को दूर करने के उपाय
Also Read:   घोड़े की नाल के अचूक उपाय (ghode ki nal ke achuk upaye)

जिस व्यक्ति की कुंडली में पितृ दोष है तो उन्हें घर की दक्षिण दिशा में अपने पितरों की फोटो लगाएं. उनका नमन वंदन करें और उनकी प्रतिमा पर रोजाना माला चढ़ाकर उन्हें याद करें. ऐसा करने से पूर्वजों का आशीर्वाद मिलता है. उनका आशीर्वाद मिलने के साथ ही पितृदोष का प्रभाव भी समाप्त होता है.


Spread the love