बालों की अनेक समस्याओं का एक अनोखा घरेलू उपाय – कढी पत्ते का तेल​

kaddi patta

Aaj ke video mein hum banaa rahe hain Kadhi Patte ka Tel, yaani Curry Leaf Oil jo ki ek Herbal Hair oil hai. Yeh ek bahut hi aasaan recipe hai aur iske baalon ke liye anek faayde jaankar aap bhi isey apne ghar par zaroor banayengey.

In today’s video we are preparing Kaddi Patta Oil or Curry Leaf Oil. This is a simple recipe and we are sure that after watching this video and knowing the benefits of Curry leaves you too will want to prepare this recipe at home. kadi patta oil, kadi patta, kadi patta leaves, kadi patta oil for hair, kadi patta oil uses, kadi patta plant, kadi patta benefits, kadi patta oil benefits,

 INGREDIENTS

कढी पत्ते का आयुर्वेदिक तेल​
कढी पत्ता – १ कप​
नारियल का तेल – ४ चम्मच + ३ कप​​
विटामिन E – २ केप्स्यूल​
—————-
Curry leaves herbal oil
Curry leaves – 1 cup
Coconut Oil – 4 tbsp + 3 cup
Vitamin E – 2 capsules

क्या हैं कोरोनावायरस के तीन नए लक्षण?

corona symptoms

कोरोनावायरस वैज्ञानिकों और डॉक्टरों के लिए ज्यादा बड़ी चुनौती इसलिए भी बना क्योंकि वक्त बीतने के साथ इससे जुड़ी नई बातें लगातार सामने आती रहीं। खास तौर पर इस बीमारी के लक्षणों के बारे में। कोविड-19 के अबतक कुल 9 लक्षण बताए गए थे, लेकिन अब इसमें 3 और जुड़ गए हैं। बहती नाक, उल्टी आना और दस्त, ये भी कोरोना संक्रमण की वजह से हो सकते हैं। लेकिन इनके अलावा ऐसे भी मरीज सामने आए हैं जिन्होंने पीठ दर्द महसूस किया और फिर टेस्टिंग मे कोरोना पॉजिटिव पाए गए। अगर आपकी कमर में तेज दर्द है, पेट में दर्द है, पैर की पिंडलियों में दर्द है या रैशेज़ पड़ गए हैं तो ये भी कोरोना वायरस के लक्षण हो सकते हैं। मुंबई के सीनियर डॉक्टर जलील पारकर पिछले दिनों कोरोना वायरस के मरीजों को देख रहे थे। उन्होंने करीब 200 मरीजों का इलाज किया। बाद में वह खुद कोरोना पॉजिटिव आए। जलील बताते हैं कि उन्होंने जिस लक्षण को सबसे पहले महसूस किया वो पीठ दर्द ही था।

ऐसे में जिन लोगों को पहले कभी पीठ दर्द की परेशानी नहीं रही या हाल में आपने ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे पीठ दर्द होने की संभावना हो, अगर ऐसे लोगों को अचानक पीठ में दर्द महसूस हो, तो ये खतरे की घंटी हो सकता है। आपको तुरंत अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

इसके अलावा डॉक्टर ये भी बताते हैं कि इन दिनों उन्होंने ऐसे-ऐसे मरीज देखें हैं जिनको पहले कभी डायबिटीज की बीमारी नहीं थी, लेकिन अब उनका शुगर लेवल 400 के पार है। डॉक्टर कहते हैं कि कोरोना मरीज में शुगर लेवल तेजी से ऊपर चला जाता है। डायबटीज के मरीजों को तो डॉक्टर शुरू से ही बचने की सलाह दे रहे हैं, क्योंकि कोरोना के संक्रमण के लिहाज से उनका शरीर काफी संवेदनशील है।

आपको बता दें कि कोरोना वायरस के इससे पहले तक सिर्फ 9 लक्षण बताए गए थे। इसमें बुखार, सूखी खांसी, सांस लेने में दिक्कत, थकान, बॉडी पेन, सिर दर्द, स्वाद या गंध का एहसास ना होना और गले में खराश शामिल थे। अब अमेरिकन सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल ने बहती नाक, जी मचलाना या उल्टी आना और दस्त को इसमें तीन नए लक्षणों के तौर पर शामिल कर लिया है।

Search Terms – coronavirus treatment,coronavirus symptoms vs cold,coronavirus symptoms day by day,coronavirus symptoms checker,coronavirus symptoms in kids,stages of corona,coronavirus symptoms vs flu symptoms,any corona positive near me,कोरोना के लक्षण ,कोरोना के लक्षण इन हिंदी,कोरोना के लक्षण,कोरोना के लक्षण कैसे होते हैं ,कोरोना के बारे में बताइए,कोरोना के लक्षण क्या होते हैं ,कोरोना के लक्षण हिन्दी,कोरोना के लक्षण क्या है,कोरोना के शुरुआती लक्षण,कोरोना के लक्षण इन हिन्दी

वे कौनसी तस्वीरे है जो लाती है वास्तु दोष

घर में कौन सी फोटो लगानी चाहिए vastu dosh

आज हम आपको अपनी इस post वे कौनसी तस्वीरे है जो लाती है वास्तु दोष topic पर discuss करने जा रहे हैं। और हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आएगी। और आप इसको आगे share भी करेंगे।

वास्तु दोष के हिसाब से घर में अगर देवी देवताओं की तस्वीर लगाया जाए तो वह बहुत अच्छा माना जाता है। वास्तु शास्त्र के हिसाब से ऐसा माना जाता है कि घर में लगी देवी देवताओं की तस्वीर negative ऊर्जा को खत्म कर देती है और positive ऊर्जा बनाती है।

वास्तु शास्त्र के हिसाब से घर में देवी देवताओं की तस्वीर लगाने को बहुत शुभ माना गया है इसके अलावा घर में लगी देवी-देवताओं की तस्वीर आपके परिवार में सुख शांति भी लाती है पर वास्तु शास्त्र के हिसाब से देवी-देवताओं की कुछ रूपी तस्वीरें से घर में नकारात्मक उर्जा बहुत बढ जाती है।

जैसे यह:

  • ऐसी तस्वीर जिसमे देवाधिदेव शिव माता पार्वती और उनके पुत्र गणेश कार्तिक के साथ रहे उस तस्वीर को घर में लगाना बेहद शुभ माना जाता है। और इस तस्वीर को घर में लगाने से घर में कोई difficulties नहीं आता है और पारिवारिक जीवन में भी सुख बड़ा रहता है।
  • वास्तु शास्त्र के हिसाब से भोले शंकर की क्रोध की मुद्रा वाली तस्वीर कभी भी अपने घर में नहीं लगानी चाहिए ऐसी तस्वीर को विनाश का प्रतीक माना गया है इस तस्वीर को घर में लगाने से सदैव आपसी misunderstanding का माहौल बन सकता है इसीलिए सचिव को घर में लगाने से बचें।
  • भगवान शिव का निवास कैलाश पर्वत उत्तर दिशा में होता है और इसी कारण शिव जी की मूर्ति या फोटो घर के उत्तर दिशा में लगाना बहुत और उत्तर दिशा में शिवाजी की फोटो या मूर्ति ऐसी जगह पर लगानी चाहिए जहां घर में आने जाने वाले लोग महादेव की दर्शन कर पाए इससे आम अच्छे होते हैं।
  • शिव जी की ऐसी मूर्ति या फिर तस्वीर लगानी चाहिए जिसमें वो happy रहें और क्रोध में न दिखे।
  • नंदी पर विराजमान हो या फिर ध्यान की मुद्रा की तस्वीरें घर में लगाना शुभ माना जाता है और यह वातावरण को शांत करता है।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको कैसे वे कौनसी तस्वीरे है जो लाती है वास्तु दोष यह आर्टिकल काफी पसंद आया होगा कृपया इसको सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें यदि आप कुछ प्रश्न करना चाहते हैं तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स पर या हमें फेसबुक पर मैसेज करके भी पूछ सकते हैं।

Search Terms – घर में कौन सी फोटो लगानी चाहिए,फोटो लगाने की दिशा,घर में फोटो,पति-पत्नी की फोटो किस दिशा में लगाना चाहिए,दौड़ते हुए घोड़े की तस्वीर किस दिशा में लगानी चाहिए,कैसी फोटो घर में लगाएं,वास्तु देवता की फोटो,वास्तु दोष निवारक यंत्र,वास्तु दोष के उपाय,प्रमुख वास्तु दोष,उत्तर दिशा का वास्तु दोष,घर में वास्तु दोष हो तो क्या करना चाहिए,दक्षिण दिशा वास्तु दोष निवारण,ईशान कोण वास्तु दोष निवारण,घर में फोटो,पूर्वज की फोटो किस दिशा में लगाना चाहिए,पति-पत्नी की फोटो किस दिशा में लगाना चाहिए,राधा-कृष्ण की फोटो किस दिशा में लगाये,भगवान की फोटो किस दिशा में लगाना चाहिए,फोटो लगाने की दिशा,घर का फोटो,वास्तु के अनुसार घर में फोटो,वास्तु शास्त्र, Photo direction as per vastu shastra

1 जुलाई देव एकादशी 5 महीने तक सोयेंगे विष्णु, पीपल के सामने बोले महामंत्र हर मनोकामना पूर्ण होगी

देवशयनी एकादसी

5 महीने पाताल लोक में रहेंगे विष्णु, धरती संभालेंगे महादेव … जाने देवशयनी एकादशी पर क्या करें क्या न करें.. ऐसे करें पीपल का ये उपाय, हर प्रकार के कर्ज से मिलेगी मुक्ति, शीघ्र होगी मनोकामना पूरी

एकादशी तिथि मुहूर्त
एकादशी तिथि प्रारंभ- 30 जून शाम 7:49 बजे
एकादशी तिथि समाप्त – एक जुलाई शाम 5:29 बजे
व्रत अनुष्ठान – उदयातिथि का मान होने से एक जुलाई को व्रत धारण किया जाएगा।
व्रत परायण – दो जुलाई सुबह 5:27 बजे से 8:14 बजे के बीच।
पूजा का समय दिनभर है। व्रती किसी समय भगवान विष्णु की पूजा कर सकते हैं।

देवशयनी एकादशी व्रत व पूजा विधि (DEVSHAYANI EKADASHI VRAT PUJA VIDHI)

अधिकमास यानि मलमास भी है तो चार्तुमास की अवधि लगभक 5 माह की रहेगी. 24 एकादशी के स्थान पर 26 एकादशी होंगी। टोटल 148 दिनों का रहेगा चातुर्मास यानी 1 जुलाई से शुरू होकर 25 नवंबर को इस दिन भगवान शयन से जागेंगे, अपने शयन कक्ष से बाहर आ जाएंगे.

Devshayani Ekadashi 2020: भोले नाथ के हाथों में आने वाली है धरती की कमान, भगवान विष्णु 1 जुलाई से करेंगे विश्राम

सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जगत सुप्तं भवेदिदम।
विबुद्धे त्वयि बुध्येत जगत सर्वं चराचरम।

Search Terms – देवशयनी एकादशी 2019,देवशयनी एकादशी 2020,प्रबोधिनी एकादशी का महत्व,कार्तिकी एकादशी महत्व,देवउठनी एकादशी विकिपीडिया,एकादशी का व्रत,देवउठनी एकादशी 2020,एकादशी व्रत लिस्ट,देवशयनी एकादशी, devshayani ekadashi 2020,kamika ekadashi,ashadi ekadashi 2019,yogini ekadashi,ashadi ekadashi in marathi,ekadashi yagya,ashadhi ekadashi katha,harishayan ekadashi 2020

भगवान शिव को तुरंत प्रसन्न करते हैं ये उपाय, परन्तु हर किसी को नहीं बताने चाहिए!

भगवान शिव को तुरंत प्रसन्न करते हैं ये उपाय, परन्तु हर किसी को नहीं बताने चाहिए! || VASTU TIPS | अचूक टोटके
शास्त्रों में बताया गया है कि भगवान शिव की लिंग स्वरूप में पूजा करने से भोलेनाथ बहुत जल्दी प्रसन्न होते हैं और मनचाहा वर देते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ उपाए बताएंगे जिन्हें करने के बाद तुरंत असर दिखने लगता है और इनमें कोई खर्चा भी नहीं होता। सावन के महीने में ये उपाय और भी ज्यादा प्रभावशाली हो जाते हैं और कई गुणा फल देने लगते हैं।

1.अगर आपको लगातार अथक प्रयासों के बाद भी सफलता नहीं मिल रही है तो रोज पारे से बने शिवलिंग की पूजा करें। इससे तुरंत राहत मिलती है।
2.शिवलिंग पर रोज़ धतूरा चढाने से घर और संतान से जुडी समस्याएं दूर होती है। ये उपाय संतान को सभी कार्यों में सफलता दिलवाता है।

3.भगवान भोलेनाथ के निमित्त नियमित रूप से सवा किलो, सवा पांच किलो, ग्यारह किलो या इक्कीस किलो गेहूं अथवा चावल का दान करें। इससे अचानक आए कष्टों का निवारण होता है और समस्त बाधाओं से मुक्ति मिलती है।
4.घर में लक्ष्मी के स्थाई निवास के लिए शिवलिंग पर चावल चढा़ने चाहिए। ध्यान रखें लिंग पर चढ़ाए गए सभी चावल अखंडित (टूटे हुए न हो) हो। इससे शिवजी के साथ-साथ लक्ष्मी जी की भी कृपा प्राप्त होती है।

5.पके हुए चावलों से शिवलिंग का श्रृंगार कर भगवान भोलेनाथ की पूजा करें। इससे कुंडली का मंगल दोष शांत होता है।
6.नियमित रूप से आंकड़े के फूलों की माला बनाकर शिवलिंग पर अर्पित करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

7. लंबी उम्र के लिए शिवलिंग पर दूब अर्पित करनी चाहिए। इससे भगवान शिव के साथ-साथ गणेशजी की भी कृपा प्राप्त होती है।
8.अगर कुंडली में शनि दोषयुक्त है या किसी प्रकार से पीड़ा दे रहा है तो शिवलिंग पर काले तिल मिलाकर जल चढ़ाएं। इससे तुंरत राहत मिलेगी।

9. केसर मिश्रित जल से शिवलिंग का जलाभिषेक करने से विवाह तथा वैवाहिक जीवन से जुड़ी समस्याएं तुरंत दूर होती है तथा गृहस्थ जीवन में आ रहे सभी व्यवधान तुरंत दूर होते हैं।
10. अगर बीमारियों से बहुत ज्यादा परेशान हो चुके हैं और दवाईयां लेने के बाद भी आराम नहीं हो रहा है तो पानी में दूध तथा काले तिल मिलाकर शिवलिंग पर चढ़ाने से सभी बीमारियां दूर हो जाती हैं।

11.कच्चे दूध में शक्कर मिलाकर तांबे के लोटे से शिवलिंग पर चढ़ाएं। इससे मां सरस्वती का आशीर्वाद मिलता है और ज्ञान बढ़ता है।
12.बिल्वपत्रों पर चंदन से ॐ नमः शिवाय लिखें। इसके बाद इन पत्तों की माला बनाकर शिवलिंग पर चढ़ाएं। ध्यान रखें,

बिल्वपत्र कटे-फटे नहीं होने चाहिए।
13.किसी सुनसान जगह पर स्थित शिव मंदिर में दीपक जलाने से हर मनोकामना पूरी होती है।
14.अगर आपके पास गाड़ी नहीं है तो रोज शिवलिंग पर चमेली के फूल चढ़ाएं और भोलेनाथ के महामन्त्र ॐ नमः शिवाय का रोजाना 108 बार जप करें।

15.भगवान भोलेनाथ पर जल चढ़ाते समय शिवलिंग को दोनों हथेलियों से रगड़ना चाहिए। इस उपाय से हर किसी की किस्मत बदल जाती है।

सोमवार से सावन का महीना – जो शुद्ध मन से भगवान की प्रार्थना करता है उसको भगवान भोलेनाथ की कृपा मिलती है

प्रिय मित्रों भगवान भोलेनाथ की कृपा आप सब लोगों पर बनी रहे आप सभी लोग स्वस्थ रहें खुश रहें और संपन्न रहें जैसा कि आप लोग जानते हैं कि सावन का महीना आने वाला है |

सावन का महीना भगवान भोलेनाथ की कृपा का महीना है इस पवित्र महीने का जो शुद्ध मन से भगवान की प्रार्थना करता है पूजा करता है उसको भगवान भोलेनाथ की कृपा मिलती है |

आज हम आपके लेकर आए हैं ऐसा उपाय जिसके माध्यम से आप की आर्थिक समस्या और भगवान की कृपा आप को मिलेगी  – 

सोमवार से सावन का महीना, अद्भुत योग में घर लायें कोई 6 में से 1 पवित्र चिन्ह, भोलेनाथ की बरसेगी कृपा

पूजा करते समय अगर आपकी आँखों में भी आंसू आते है तो इसक क्या रहस्य है? | Tears in Eyes while puja

pooja

दोस्तों अगर पूजा या ध्यान करते समय अगर आपकी आँखों में आंसू आते है तो इश्वर आपको कुछ महत्वपूर्ण संकेत दे रहे है. इस विडियो में जानिये पूजा के दौरान मिलने वाले संकेतो के बारे में. भगवन शिव जी की पूजा के दौरान अगर आपकी आँख से आंसू छलकते है तो भगवन शिव जी की कृपा आप पर है. साथ ही विद्यार्थी अगर पढाई करते समय माँ सरस्वती का ध्यान करते है और आँखों में आंसू आते है तो माँ सरस्वती की कृपा है.

व्यक्ति में ये 3 लक्षण है तो महादेव का उसके सिर पर हाथ है | Lord Shiva

महादेव की कृपा प्राप्त व्यक्ति में ये ३ लक्षण दिखाई देते है. महात्मा विदुर जी ने व्यक्ति के लक्षणों के बारे में बताया है. महात्मा विदुर महाभारत के केंद्रीय पत्रों में से एक थे.