1 जुलाई देव एकादशी 5 महीने तक सोयेंगे विष्णु, पीपल के सामने बोले महामंत्र हर मनोकामना पूर्ण होगी

5 महीने पाताल लोक में रहेंगे विष्णु, धरती संभालेंगे महादेव … जाने देवशयनी एकादशी पर क्या करें क्या न करें.. ऐसे करें पीपल का ये उपाय, हर प्रकार के कर्ज से मिलेगी मुक्ति, शीघ्र होगी मनोकामना पूरी

एकादशी तिथि मुहूर्त
एकादशी तिथि प्रारंभ- 30 जून शाम 7:49 बजे
एकादशी तिथि समाप्त – एक जुलाई शाम 5:29 बजे
व्रत अनुष्ठान – उदयातिथि का मान होने से एक जुलाई को व्रत धारण किया जाएगा।
व्रत परायण – दो जुलाई सुबह 5:27 बजे से 8:14 बजे के बीच।
पूजा का समय दिनभर है। व्रती किसी समय भगवान विष्णु की पूजा कर सकते हैं।

देवशयनी एकादशी व्रत व पूजा विधि (DEVSHAYANI EKADASHI VRAT PUJA VIDHI)

अधिकमास यानि मलमास भी है तो चार्तुमास की अवधि लगभक 5 माह की रहेगी. 24 एकादशी के स्थान पर 26 एकादशी होंगी। टोटल 148 दिनों का रहेगा चातुर्मास यानी 1 जुलाई से शुरू होकर 25 नवंबर को इस दिन भगवान शयन से जागेंगे, अपने शयन कक्ष से बाहर आ जाएंगे.

Devshayani Ekadashi 2020: भोले नाथ के हाथों में आने वाली है धरती की कमान, भगवान विष्णु 1 जुलाई से करेंगे विश्राम

सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जगत सुप्तं भवेदिदम।
विबुद्धे त्वयि बुध्येत जगत सर्वं चराचरम।

Search Terms – देवशयनी एकादशी 2019,देवशयनी एकादशी 2020,प्रबोधिनी एकादशी का महत्व,कार्तिकी एकादशी महत्व,देवउठनी एकादशी विकिपीडिया,एकादशी का व्रत,देवउठनी एकादशी 2020,एकादशी व्रत लिस्ट,देवशयनी एकादशी, devshayani ekadashi 2020,kamika ekadashi,ashadi ekadashi 2019,yogini ekadashi,ashadi ekadashi in marathi,ekadashi yagya,ashadhi ekadashi katha,harishayan ekadashi 2020

Also Read-